मुख्य समाचार

गलियों का हाल बदहाल,अपने बदहाली की आंसू रो रही गांव की गलियां।

सोनभद्र – सोनप्रभात

 

सोनभद्र जनपद के चोपन ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम पंचायत घोरिया में उत्तर मोहल्ला वाली गली की हालत बेहद खराब हो गई है। ग्रामीण जनों का कहना  है कि प्रशासन द्वारा विकास का ढिंढोरा पीटा जा रहा है, वहीं पर इनके कुछ सरकारी अफसर अपने आदत से बाज नजर नहीं आ रहे हैं। जनता अगर अपनी समस्या को लेकर संबंधित अधिकारी के पास जाती है तो अधिकारियों द्वारा हीला हवाली करते हुए उस प्रार्थना पत्र पर अपने उच्च स्तरीय अधिकारी को प्रेषित कर दिया जाता है , ग्राम पंचायतों में ग्राम प्रधानों द्वारा राजनीत किया जाता है की आप द्वारा हमें वोट नहीं मिला तो हम आपके गली का मरम्मत क्यों कराएं। इसी वजह से ज्यादातर ग्राम पंचायतों में विकास कार्य अधूरा पड़ा है।  जनता को गांव की गलियों मैं आवागमन करना काफी मुश्किल भरा है सड़क तो खराब ही है , वहीं पर गांव की बज बजाती नालियां अपने आप पर बयां कर रही हैं कि यही ग्राम का सुंदरीकरण है नालियां भी जगह जगह टूटी हैं जिससे यहां पर लोगों को निकलना भी मुश्किल हो रहा है। टूटी नाली होने से सड़कों पर पानी बहता है।

 

इसको लेकर कई बार शिकायत भी की गई। मगर कोई हल नहीं निकला। स्थानीय लोग इसको लेकर से नाराज हैं। सड़क और नाली जगह जगह क्षतिर्ग्रस्त है। बारिश में तो इस सड़क की हालत बेहद खराब हो जाती है। बुजुर्ग और बच्चे इधर से निकलने से भी कतराते हैं। नालियां टूटी होने से गंदगी का असर बढ़ रहा है और संक्रामक रोग फैलने का भी खतरा बना हुआ है। इसकी शिकायत जनसुनवाई पर भी की गई मगर समस्या के समाधान को लेकर किसी ने कोई रुचि नहींं ली। क्योंकि जनता बहुत ही आशा और विश्वास के साथ ब्लॉक में खंड विकास अधिकारी कार्यालय जिलाधिकारी कार्यालय अपने समस्या को लेकर के बहुत ही आशा और विश्वास के साथ जाती है की साहब के दरबार में आए हैं हो सकता है हमें न्याय मिले लेकिन ऐसा नहीं होता है ज्यादातर मामला देखा गया है की जिस अधिकारी के खिलाफ प्रार्थना पत्र दिया गया है, उसी अधिकारी को जांच अधिकारी बना कर के जांच करने के लिए भेज दिया जाता है और जनता को न्याय नहीं मिलता जिससे जनता काफी निराश हो जाती है, यहां पर प्रधान का दबदबा कायम रहता है। यही कारण है कि ज्यादातर ग्राम पंचायतों के ग्राम प्रधानों का जनता को यही कहना होता है की जाओ हमारे बारे में जितना प्रार्थना पत्र देना है देते रहो जब जनता द्वारा अपना उग्र रूप सड़कों पर दिखाया जाता है, उस दौरान अधिकारियों द्वारा कार्यवाही की जाती है।

स्थानीय निवासी आशीष चौबे ने बताया कि आज तक समस्या के समाधान के लिए कोई भी कार्य नहीं किया गया है। यहां के लोग बेहद परेशान हैं।
और शतीश शुक्ल, अनुराग चौबे, आदर्श चौबे, छोटक अग्रहरि, अछैबर अग्रहरि आदि ने सड़क समस्या का समाधान करने की मांग की है l

Live Share Market

जवाब जरूर दे 

सोनभद्र जिले से अलग कर "दुद्धी को जिला बनाओ" मांग को लेकर आपकी क्या राय है?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
.
Website Designed by Sonprabhat Live +91 9935557537
.
Close
Close