मुख्य समाचार

स्कूल आने जाने के लिए रास्ता खराब होने से विद्यार्थियों को उठानी पड़ रही परेशानी।

डाला- सोनभद्र

अनिल कुमार अग्रहरि – सोनप्रभात

डाला – विकासखंड चोपन के अंतर्गत ग्राम पंचायत कोटा में स्थित अम्माटोला बस्ती में 1980 से बने प्राथमिक विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र व छात्राओं को आने-जाने के लिए रास्ता ना होने से उन्हें काफी परेशानी उठानी पड़ रही है। विद्यालय की चहारदीवारी से रघुनाथ के घर तक सटे नहर के पास से पिछले पंचवर्षी में वार्ड 2 की सदस्त रहीं शिला देवी ने नाली तो बनवा दिया पर रास्ता का झाम आज भी झेलते है बच्चें।

ग्रामीणों ने प्रदर्शन कर विद्यालय पर जाने का रास्ता बनवाने की मांग की । ग्राम पंचायत कोटा के टोला अम्माटोला प्राथमिक विद्यालय में 187 छात्र/ छात्राएं पंजीकृत है विद्यालय के प्रभारी शैल कुमार ने बताया कि इस विद्यालय में छात्र-छात्राओं व हम गुरुजनों को भी आने जाने के लिए रास्ता नहीं है। हम लोग खेत के मेड़ पर चलकर किसी तरह विद्यालय पहुंचते हैं। बरसात में तो बच्चे गिरने के डर से विद्यालय भी नही पहुंच पाते। अभिभावकों को डर बना रहता है कि बच्चे चोटिल न हो जाय। इस बावत कई बार विद्यालय प्रबंधन द्वारा ग्राम पंचायत विकास अधिकारी व ग्राम प्रधान को लिखित व मौखिक अवगत कराया गया परन्तु कोई कार्यवाही नही हुई। कक्षा एक से पांच तक के शिक्षा के लिए सहायक अध्यापक व शिक्षामित्र 5 है जिनमे पारुल शर्मा मातृत्व अवकाश में है। स्थानीय लोगों के सहयोग से उक्त विद्यालय में धीरे-धीरे बच्चों की भी संख्या बढ़ती गयी । परंतु विद्यालय से महज 100 मीटर दूर गांव के माइनर पे खड़ंजा लगा है लेकिन विद्यालय निर्माण से आज 40 वर्ष बीतने बाद भी 100 मीटर रास्ता नही बना सका।

इस विद्यालय को बनवाने के लिए रघुनाथ पुत्र देव सहाय व बबई पुत्र छोटई निवासी ग्राम कोटा , टोला अम्माटोला ने सन 1980 में दान किया था । रघुनाथ ने बताया कि गांव में कोई जमीन नही देने को तैयार था तो हम दोनों अपनी जमीन में विद्यालय बनवाने का निर्णय लिए की गांव में स्कूल रहेगा तो बच्चे पढ़ेंगे। विद्यालय पर जाने का रास्ता भी मैं अपनी जमीन में देने को तैयार हूं । उन्होंने कहा कि हमने भी रास्ते को लेकर ग्राम प्रधान से कई बार कहा पर कोई सुनवाई नहीं हुई । जर्जर विद्यालय के मुख्य भवन को खण्ड शिक्षा अधिकारी चोपन , मुकेश राय ने 23/12/2020 को ध्वस्त करने का आदेश भी दे दिया । लेकिन ग्रामीणों को अफसोस रहा कि अभी तक रास्ता नही बना । शिक्षा मित्र अजय तिवारी ने कहा कि उक्त विद्यालय में आने-जाने के रास्ते को लेकर ग्राम प्रधान को हमने कई बार अवगत भी कराया । लेकिन, कोई सुनवाई नहीं हो रही। प्रदर्शन कर रहे शिवकुमारी , संगीता देवी , अनिता, शकुंतला देवी, राजकुमारी, चिरोजिया, ललिता ,आशा, फुलेशरी, बाबालाल, राजकुमार , विजय, रघुनाथ, रामविलास, सुरेंदर, मनीलाल, मुन्नू, दुदुन आदि लोग रहें।

Live Share Market

जवाब जरूर दे 

सोनभद्र जिले से अलग कर "दुद्धी को जिला बनाओ" मांग को लेकर आपकी क्या राय है?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
.
Website Designed by Sonprabhat Live +91 9935557537
.
Close
Close