रामचरितमानस-: “रावन मरन मनुजकर जाचा। प्रभु विधि वचन कीन्ह चह साचा।“- मति अनुरुप- अंक 37. जयंत प्रसाद

सोनप्रभात- (धर्म ,संस्कृति विशेष लेख)  – जयंत प्रसाद ( प्रधानाचार्य – राजा चण्डोल इंटर कॉलेज, लिलासी/सोनभद्र ) –मति अनुरूप– ॐ साम्ब शिवाय नम: श्री हनुमते नमः खर दूषन मोहिं सम बलवन्ता। तिन्हहिं को मारइ बिनु भगवन्ता। श्री रामचरितमानस की शूर्पणखा के द्वारा जब रावण ने खर दूषण के वध का समाचार सुना तो रात में … Continue reading रामचरितमानस-: “रावन मरन मनुजकर जाचा। प्रभु विधि वचन कीन्ह चह साचा।“- मति अनुरुप- अंक 37. जयंत प्रसाद