मुख्य समाचार

हरे पेड़ों की कटाई जारी,आखिर कब तक वन विभाग करेगी नजरंदाज।

डाला – सोनभद्र / अनिल अग्रहरी – सोन प्रभात

डाला,सोनभद्र। वन क्षेत्र में धड़ल्ले से हो रहे हरे पेड़ो की अवैध कटाई से जंगल विरान हो रहे हैं। प्रत्येक वर्ष पौधरोपण के नाम पर विभाग की ओर से लाखों पेड़ तो लगाए जाते हैं। लेकिन अधिकांश पौधे जंगलों में नही बल्कि कागज में ही सिमट जाते है । जमीन पर नजर नही आते। बचेखुचे पेड़ भी विभाग की उदासीनता के चलते प्रति वर्ष आग की भेंट चढ़ जा रहे हैं।अबाड़ी, गौराही पतगड़ी एवं रानीताली का जंगल वन माफियाओं के लिए विभागीय मिलीभगत के कारण सुरक्षित ठिकाना बना हुआ हैं वही मजे की बात तो यह कि वनों की रखवाली के लिए वन रेंज में वाचर, वन दरोगा के साथ ही अन्य कर्मचारी तैनात हैं बावजूद इसके जंगलों से प्रतिदिन हरे व सूखे पेड़ धड़ल्ले से काटे जा रहे है। वर्तमान के छः महीने के अंदर जंगल ज्यादा काटे गए। वन माफियाओं द्वारा फिर अबाड़ी के जंगल में बेशकीमती पेड़ काटा गया जिसमें पेड़ व पेड़ का ठूठ भी तश्वीर में देखा जा सकता हैं।


अवैध वनों के कटाई से न सिर्फ प्राकृतिक संपदा की छति हो रही है। बल्कि क्षेत्र में कार्बन उत्सर्जन की वजह से बरसात में भी तेजी से गिरावट आ रही है। कोरोना महामारी के इस दौर में आक्सीजन की कमी से लोगों को दम तोड़ते हुए भी देखा गया है। लेकिन वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी लापरवाह मिलीभगत में बदलती जा रही हैं। सूत्रों की मानें तो पेड़ों की कटाई होते समय ही सुचना विभाग को मिल जाती है ।

सवाल यह है कि जब जिम्मेदारी अधिकारी व वनकर्मियों की मिलीभगत से ही जंगल उजड़ रहे है तो देख रेख करेगा कौन विभाग को सूखे पेड़ गिरने की सुचाना , व काटने की व्यवस्था रहती है । लेकिन मौके पर कोई वनकर्मी नहीं पहुंचता। जिसकी वजह से अवैध कटान में लगे लोगों के हौसलें बढ़ गए हैं। समय रहते वनों की कटान पर अंकुश नहीं लगाया गया तो आने वाले दिनों में जंगल का आस्तीत्व खत्म होने से इनकार नहीं किया जा सकता।

Live Share Market

जवाब दीजिए

सोनभद्र जिले से अलग कर "दुद्धी को जिला बनाओ" मांग को लेकर आपकी क्या राय है?

View Results

Loading ... Loading ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
.
Website Designed by Sonprabhat Live +91 9935557537
.
Close