मुख्य समाचार

उच्च न्यायालय के आदेश के अवहेलना पर सोनभद्र जिलाधिकारी तलब, लोकआयुक्त जांच के घेरे में ओबरा एसडीएम ।

सोनभद्र / सोन प्रभात – अनिल कुमार अग्रहरि/ आशीष गुप्ता – सोन प्रभात

डाला सोनभद्र- स्थानीय चौकी क्षेत्र के बिल्ली मारकुंडी ग्राम पंचायत के लंगड़ा मोड़ में स्थित सड़क की नापी उच्च न्यायालय के आदेश के अवहेलना पर जिलाधिकारी सोनभद्र को तलब किया गया है साथ ही लोक आयुक्त जांच के घेरे में ओबरा एसडीएम हैं।


प्राप्त जानकारी के अनुसार ओबरा एसडीएम के द्वारा क्रशर व्यव्साई व प्लांट मालिकों को नोटिस तामिल कराई गई थी की याचिकाकर्ता के साथ एक बैठक की जाना है और ओबरा एसडीएम के ऑफिस 16 दिसम्बर 2021 को सभी क्रशर व्यव्साई व प्लांट मालिकों ने बैठक में शामिल होकर व्यवसायियों ने बताया कि याचिका कर्ता की जमीन भूमिधरि नहीं है। इनके जमीन की नापी करा कराकर इनकी जमीन अलग कर दिया जाए और उस क्रम में बैठक में यह तय हुआ कि आगामी 20 दिसम्बर 2021 को लिखित पैमाइश की जायेगी और निश्चित समयानुसार एसडीएम ओबरा के टीम के द्वारा नापी कर दिया गया और साथ ही काश्तकार को बिंदु भी बताई गई जिसके उपरांत काश्तकार ने अपनी जमीन पर खुदाई कर मेड़ा बना दिया दिया।कास्तकार के द्वारा बनाए गए मेड़ा को ओबरा उपजिलाधिकारी जैनेन्द्र सिंह पुलिस प्रशासन मय फोर्स के साथ मौके पर पहुंच कर कास्तकार के द्वारा बनाए गए दाडा मेड़ा को पोपलेन मशीन से हटवा दिया गया था, इसके बाद कास्तकार सत्यप्रिय अग्रवाल ने फिर से न्याय के लिए हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया इस संबंध में सत्य प्रित अग्रवाल ने बताया कि यह उच्च न्यायालय के आदेश पर हमारी भूमि की नापी करना तय करना था जिसमें की मां. उच्च न्यायालय के आदेश के अनुरूप नापी की गई थी।

जिसको लेकर उच्च न्यायालय ने सत्य प्रिय अग्रवाल के जमीनी प्रकरण में उच्च न्यायालय के आदेश के अवमानना के विरुद्ध जिलाधिकारी सोनभद्र टी . के. शिबू को 27 अप्रैल 2022 उच्च न्यायालय में तलब किया गया और साथ ही ओबरा एसडीएम जैनेन्द्र सिंह का लोक आयुक्त जांच के घेरे में आ गए हैं।

Live Share Market

जवाब दीजिए

सोनभद्र जिले से अलग कर "दुद्धी को जिला बनाओ" मांग को लेकर आपकी क्या राय है?

View Results

Loading ... Loading ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
.
Website Designed by Sonprabhat Live +91 9935557537
.
Close