मुख्य समाचारआम मुद्दे

हाय बिजली : बिजली रानी के अलग नखरे, बिजली कटौती से हाल बेहाल।

  • नौबत – रात्रि में बिजली कटने के बाद गर्मी के वजह से सड़क पर घूम रहे हैं लोग।

दुद्धी – सोनभद्र / जितेंद्र चंद्रवंशी- सोन प्रभात

दुद्धी सोनभद्र। नगर और आसपास के क्षेत्र में एक तरफ जहां गर्मी का पारा चढ़ रहा है तो दूसरी ओर से बिजली की लगातार कटौती ने लोगों का हाल बेहाल कर दिया है ।

कस्बे व आसपास के क्षेत्रों में बिजली की लगातार कटौती चल रही है, जिससे लोगों को तेज धूप व उमस भरी गर्मी में दिन काटना मुश्किल हो गया है ।सुबह से बिजली की कटौती देर रात तक चलता रहता है, जिससे लोगों में आक्रोश देखा जा रहा है।

काफी लोगों का कहना है भाजपा शासन में बिजली आपूर्ति मुख्य थी लेकिन एक हफ्ते से ऐसा कुछ नजर नहीं आ रहा है, कहा कि बिजली की लगातार कटौती से घर में रखें विद्युत उपकरणों का प्रयोग करने में भी सोचना पड़ रह रहा है कि कोई खराब न हो जाए। लोगों ने विद्युत आपूर्ति में सुधार की मांग सम्बंधित प्रशासन से की है।आगे कहा है कि समय रहते इसका समाधान नहीं निकाला गया तो लोग प्रदर्शन को बाध्य हो जाएंगे जिसका जिम्मेदार स्थानीय विद्युत विभाग के अधिकारियों की होगी । दिन हो या रात अंधाधुंध कटौती जारी है आज बुधवार को ऐसा हाल हो गया कि हर 1 मिनट में बिजली आ रही है और चली जा रही है उसके बाद घंटों पता नहीं चल रहा है। रात का आलम है कि आधे दर्जन से अधिक बार बिजली की रुक-रुक घंटो घंटो कटौती हो रही है बिजली आएगी की भी नहीं इसकी भी कोई ठोस जानकारी नहीं देने वाला कोई है। आम नगरवासी दिन हो या रात बिजली बिना बेहाल बच्चे महिलाओं का बुरा हाल है लोग बिजली कटौती रात्रि में होने के बाद रात भर सड़कों पर इधर से उधर घूमते लोग नजर आ रहे हैं। बिजली आपूर्ति की दूर व्यवस्था से लोगों को पेयजल आपूर्ति भी नसीब नहीं हो पा रहा है पानी पीनेके लिए लोग परेशान हाल है मगर कोई सुनने वाला नहीं है। साथ ही नगर वासियों ने चेतावनी दिया है कि अगर बिजली आपूर्ति व्यवस्था में सुधार नहीं हुआ तो लोग सड़क पर कभी भी उतर सकते हैं।

Live Share Market

जवाब दीजिए

सोनभद्र जिले से अलग कर "दुद्धी को जिला बनाओ" मांग को लेकर आपकी क्या राय है?

View Results

Loading ... Loading ...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
.
Website Designed by Sonprabhat Live +91 9935557537
.
Close