मुख्य समाचार

सोनभद्र : उम्भा कांड को आज हुए तीन साल,बरसी मनाने हेतु मिले तीन संगठनो के अर्जी को किया खारिज।

Story Highlights

  • 17 जुलाई सोनभद्र के काला दिनों में से एक दिन है, गत 17 जुलाई 2019 को उंभा कांड में 11 आदिवासी किसानों की हुई थी हत्या। उंभा कांड की तीसरी बरसी को लेकर पुलिस-प्रशासन अलर्ट है, गांवों को चारों तरफ बैरियर लगाकर सील कर दिया गया है, ताकि कोई भी बाहरी व्यक्ति वहां प्रवेश न कर सके।

प्रशासन ने बरसी मनाने के लिए कांग्रेस सहित तीन संगठनों की ओर से दिए गए आवेदन को कोविड संक्रमण और धारा-144 का हवाला देते हुए खारिज कर दिया है। कई थानों की फोर्स और पीएसी गांव में सुरक्षा के लिए मुस्तैद है।

सोनभद्र/ आशीष गुप्ता – सोन प्रभात

सोनभद्र जिले के घोरावल तहसील के उभ्भा गांव में 17 जुलाई 2019 को जमीन विवाद में 11 आदिवासियों की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वहीं दो दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए थे।सामूहिक नरसंहार का यह मामला राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में आया था।

उंभा गांव को जाने वाली सभी मार्गों पर पुलिस की चौकसी

उभ्भा जाने वाले हर मार्ग पर बरती जा रही चौकसी
मुख्यमंत्री सहित विभिन्न दलों के शीर्ष नेताओं ने यहां पहुंचकर पीड़ित परिवारों को न्याय का भरोसा दिलाया था। घटना में मारे गए आदिवासियों की स्मृति में कांग्रेस सहित विभिन्न संगठन बरसी मनाते हैं। इस बार प्रशासन ने किसी प्रकार के कार्यक्रम की अनुमति नहीं दी है। गांव को कड़ी सुरक्षा के बीच चारों तरफ से सील कर दिया गया है, जिससे कोई भी बाहरी व्यक्ति प्रवेश न कर सके।

उम्भा गांव में प्रवेश करने वालों मार्गों पर पुलिस का सख्त पहरा।

उभ्भा को जाने वाले हर मार्ग पर चौकसी बरती जा रही है। घोरावल, शाहगंज सहित गई थानों की फोर्स व पीएसी तैनात है। एसडीएम श्याम प्रताप सिंह, सीओ संजीव कटियार, एसओ गोपाल जी लगातार गांव के हालात पर नजर बनाए हुए हैं। सीओ संजीव कटियार ने बताया कि जिले में धारा-144 लागू है। कोविड के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए भी किसी सार्वजनिक कार्यक्रम की अनुमति नहीं दी गई है। लोग व्यक्तिगत तौर पर अपने-अपने घरों में बरसी मना सकते हैं।
उधर, बरसी मनाने की अनुमति न मिलने से कांग्रेसियों ने आपत्ति जताई है। जिलाध्यक्ष रामराज गोंड का कहना है कि इस घटना में मारे गए लोगों को बरसी पर श्रद्धांजलि देने से भी प्रशासन रोक रहा है। यह उचित नहीं है। सत्ता पक्ष और उससे जुड़े संगठनों के तमाम कार्यक्रम हो रहे हैं, लेकिन विपक्ष के आयोजनों को कोविड का बहाना बताकर अनुमति न देना अलोकतांत्रिक है।

सोनभद्र के इस बड़े कांड पर 2017 में बने इस वीडियो को यहां देखें।

 

 

Live Share Market

जवाब दीजिए

सोनभद्र जिले से अलग कर "दुद्धी को जिला बनाओ" मांग को लेकर आपकी क्या राय है?

View Results

Loading ... Loading ...

Son Prabhat

Sonbhadra Latest News Online - Instant, Accurate on Sonprabhat Live. The Leading News Website of Sonbhadra.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
.
Website Designed by Sonprabhat Live +91 9935557537
.
Close