मुख्य समाचार

सर्व सेवा संघ के 89 वे राष्ट्रीय अधिवेशन में उठा सोनभद्र में प्रदूषण का मुद्दा।

  • हमारी बुनियाद में सत्य, अहिंसा और जनता के प्रति प्रतिबद्धता है।
  • लोकतंत्र को फासीवाद में बदलने से रोकना है।

सोनभद्र – सोनप्रभात / जितेंद्र चंद्रवंशी

गुजरात के सूरत में आयोजित सर्व सेवा संघ के 89 वें अधिवेशन में रविवार को सोनभद्र में प्रदूषण और जल जंगल का मुद्दा राष्ट्रीय स्तर पर उठाया गया । प्रदूषण के मुद्दे पर अंतराष्ट्रीय स्तर तक मुद्दा उठाने वाले पर्यावरण कार्यकर्ता और सर्वोदय से जुड़े जगत नारायण विश्वकर्मा ने कहा कि विकास के आड़ में हजारों लोग प्रदूषण का शिकार हो दिव्यांग हो रहे है सैकड़ों जिंदगिया असमय काल के गाल में समा रही है इसे रोकने का प्रयास हम सभी साथियों को करना होगा। सूरत के दादा भगवान मंदिर परिसर में प्रारम्भ अधिवेशन में सर्व सेवा ढंग के अध्यक्ष चंदन पाल, महामंत्री गौरांग महापात्र, मंत्री अरविंद कुशवाहा तथा केंद्रीय गांधी स्मारक निधि के अध्यक्ष रामचन्द्र रही ने गांधी विनोबा व जयप्रकाश नारायण के चित्रों पर सूट माला अर्पित की तथा तुलसी के पौधे को जलांजलि देकर विधिवत अधिवेशन का प्रथम सत्र की शुरुआत हुई।

अधिवेशन का उद्घाटन करते हुए वरिष्ठ गांधीवादी नेता रामचन्द्र राही ने कहा कि1952 में भूदान शुरू हुआ और उसी समय पंचवर्षीय योजना भी प्रारंभ हुई।1956 में धीरेन मजूमदार के संपर्क में आया।नई तालीम और नए समाज रचना की सशक्त भूमिका बन रही थी।सर्वोदय संयोजन का खाका तैयार किया गया था।शंकरराव देव इस समिति के अध्यक्ष तथा रविन्द्र वर्मा ड्राफ्ट लेखक थे।SSS उस वक्त अत्यंत गहराई से राष्ट्र निर्माण के मुद्दे पर सक्रिय थी।

विनोबा ने कहा है कि हर प्रकार की राज्य व्यवस्था की बुनियाद में हिंसा व्याप्त है।भूदान अहिंसक समाज निर्माण का उद्दम था।लोकतंत्र तो तब सफल होगा जब लोक की चेतना प्रबल होगी और उसमें व्यवस्था को नियंत्रित करने का सामर्थ्य भी विकसित होगा।गांधी जी ने नैतिक शक्ति को जागृत कर स्वतंत्रता को मुकाम पर पहुंचाया था।परंतु आज भी नैतिकता और क्रूरता के बीच संघर्ष जारी है।गांधी जी ने कहा था कि सैन्यशक्ति पर लोकशक्ति की विजय से ही लोकतंत्र की स्थापना होगी।
आज़ादी के तुरंत बाद क चुनाव में राजा हार गए और रंक जीत गया।हर गांव में लोकसेवक हो जो लोकतंत्र को सक्रिय और जागृत करेगा। SSS का उत्तरदायित्व अहिंसा,,सत्य और जनता के प्रति है।। लोकसेवक कोई बनाता नहीं है, स्वयं बनता है। लोकसेवक साधक होता है।जबसे हमने दूसरे को नापना शुरू किया है तभी से विचलन नजर आया है।

लोकतंत्र को फासीवाद में बदलने नहीं देना है।जनता को निरीह और भीखमंगा नहीं बनने देना है।आत्मसम्मान से भरपूर जागरूक जनमत का निर्माण करने का लक्ष्य हमारे सामने है।
इससे पहले देश बीयर से आये अतिथियों और अभ्यागतों का स्वागत करते हुए सामाजिक चिंतक प्रकाश भाई शाह ने कहा कि सरदार पटेल को बड़ा दिखाने के लिए एक बड़ी प्रतिमा स्थापित कर दिया गया।पर सवाल प्रतिमा का नहीं प्रतिभा का है। जो प्रयोग वीर होते हैं वे सफल या असफल हो सजते हैं।पर हर प्रयोग कुछ न कुछ सबक दे जाता है और आप चंद कदम आगे बढ़ते हैं।राष्ट्र को परिपक्व होने की कीमत चुकानी पड़ती है।प्रयोगों से किसी को लाभ मिलता है तो किसी को अनुभव मिलता है।
आज का दौर विलक्षण है।मो जुबेर,तीस्ता सीतलवाड़, हिमांशु कुमार, मेधा पाटकर एक सचेत नागरिक की भूमिका अदा कर रही थी लेकिन अब वे राष्ट्रद्रोही, राजद्रोही बन गए हैं।व्हिसल ब्लोअर अपराधी बताए जा रहे हैं। राज्य प्रतिष्ठान एक विकृति को स्थापित करना चाहता है। गांधी ने जलते हुए महल में रहकर उसकी आग बुझाने का हुनर हमे सिखाया है।इसी दुनिया मे रहना है उसे गढ़ना है।विनोबा,जेपी ने किया है।

इसी सत्र में सर्व सेवा द्वारा वर्ष 2021 के लिए प्रसिद्ध सर्वोदयी सामाजिक कार्यकर्ता कुसुम बोरा मोकाशी को अहिंसक समाज रचना में उल्लेखनीय योगदान के प्रति आभार प्रकट करते हुए उन्हें गांधी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।उन्हें एक लाख रु की राशि भी दी गई।

इस अवसर पर पुरस्कार के प्रेरक गांधीवादी मदन मोहन वर्मा ने कहा की बुद्ध और गांधी भारत की आत्मा है।इन्हें मारने की कोशिशें हो रही है।अगर ऐसा हुआ तो देश मर जाएगा।मदन मोहन वर्मा गांधी विचार प्रचार के लिए अबतक गांधी जी की 40 हजार पुस्तकों का निशुल्क वितरण किया है।

श्रीमती मोकाशी ने कहा कि साधनों के संग्रह से सुख मिल सकता है,खुशी नही।समाज में शांति स्थापना हमारा परम लक्ष्य है।

सर्व सेवा संघ के अध्यक्ष श्री चंदन पाल ने अदिवेशन को संबोधित करते हुए कहा कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का दावा करते हुए परिहास चल रहा है।मेधा पाटकर,हिमांशु कुमार, मो जुबैर,तीस्ता सीतलवाड़ इसी प्रहसन के ताजा शिकार बने हैं।हम लोकतंत्र पर आए संकट को मौन रहकर देख नहीं सकते।

Live Share Market

जवाब दीजिए

सोनभद्र जिले से अलग कर "दुद्धी को जिला बनाओ" मांग को लेकर आपकी क्या राय है?

View Results

Loading ... Loading ...

Son Prabhat

Sonbhadra Latest News Online - Instant, Accurate on Sonprabhat Live. The Leading News Website of Sonbhadra.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
.
Website Designed by- SonPrabhat Web Service PVT. LTD. +91 9935557537
.
Close