gtag('config', 'UA-178504858-1'); बिल्ली मारकुंडी खनन क्षेत्र में खनन पट्टा व पर्यावरणीय स्वीकृति हेतु हुई लोक सुनवाई। - सोन प्रभात लाइव
मुख्य समाचार

बिल्ली मारकुंडी खनन क्षेत्र में खनन पट्टा व पर्यावरणीय स्वीकृति हेतु हुई लोक सुनवाई।

डाला / सोनभद्र – अनिल अग्रहरि – सोन प्रभात

डाला सोनभद्र- स्थानीय बिल्ली मारकुंडी खनन क्षेत्र में खनन पट्टा एवं पर्यावरणीय स्वीकृति हेतु लोक सुनवाई बृहस्पतिवार को दोपहर बारह बजे से प्राथमिक विद्यालय डाला बाड़ी में आयोजित किया गया जो लगभग दो घंटे देरी हो सकी।

बैठक का क्या था उद्देश्य, कई अनुपस्थित थे?

बिल्ली मारकुंडी बिल्डिंग स्टोन गिट्टी/बोल्डर डोलोस्टोन खनन परियोजना (खंड 01) क्षेत्र फल 4.970 हेक्टेयर जिसका उत्पादन 49.700 घनमीटर प्रति वर्ष या 1.24.250 टन प्रति वर्ष आराजी स. 7536 ग्रा.मि. (खण्ड 01) ग्राम पंचायत बिल्ली मारकुंडी तहसील ओबरा सोनभद्र के द्वारा पट्टेदार मेसर्स साईं राम इंटरप्राइजेज के पार्टनर चन्द्र भूषण गुप्ता के नाम क्षेत्रीय अधिकारी उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड राबर्ट्सगंज सोनभद्र के नेतृत्व में किया गया। जिसमें जिलें के एडीएम, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अधिकारी सोनभद्र सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।
बताते चलें कि कार्यक्रम अपनें निर्धारित समय से काफी देर से शुरू हुआ जहां पर क्षेत्रीय रहवासी समेत संभ्रांत लोग नदारत रहे और क्षेत्र के तमाम मिडिया एवं पत्रकार बंधु को भी इस कार्यक्रम से वंचित रखा गया क्योंकि पट्टा संचालक आयोजिक कार्यकर्ताओं द्वारा इस कार्यक्रम को लेकर सूचना नहीं दिया गया था। आयोजित कार्यकर्ता ने निजी स्वार्थ वश चुपचाप अपने चहितो के साथ मिलकर कार्यक्रम को पूर्ण कर अपना स्वीकृति लेने हेतु एक प्लानिंग तहत यह कार्यक्रम आयोजित किया गया जो स्थानीय रहते हुए भी केवल निजी स्वार्थ वंश नाम गिनाने का काम करते हैं।
जहां पर अपर जिलाधिकारी, पर्यावरण अधिकारी की मौजूदगी में आम जन को मिलने वाली सुविधाओं के विषय में बताया गया जिससे लगभग 4000 पौधों का वृक्षारोपण, योग्यता अनुसार लोगों को रोजगार, मजदूरों के लिए स्वास्थ्य सुविधाएं तथा समय समय पर पानी आदि के छिड़काव की बात कही गई।

जब आम जनता से पर्यावरण से सम्बंधित सुझाव हेतु बुलाया गया तो एक ग्रामीण ने नियमित रूप से पानी के छिड़काव व सड़क पर जो पत्थर आदि गिरते हैं उससे होने वाली दुर्घटनाओं पर ध्यान दिलाया तो एक स्थानीय द्वारा एअर क्वालिटी इंडेक्स के नियत समय पर जांच करते हुए पर्यावरण प्रभाव मूल्याकंन प्राधिकरण बोर्ड द्वारा निगरानी का अनुरोध किया गया।

कुछ लोगों ने मजदूरों को मिलने वाले स्वास्थ्य लाभ और दवाईयों का खर्च,पर प्राइवेट, सरकारी या कैंप के विषय पर भी प्रश्न रखा गया।वही मौके पर मौजूद राहुल सोनकर ने बताया कि हमारे क्षेत्र में पानी की समस्या है,पानी के लिए लोगों को दूर जाना पड़ता हैं।इसका निदान किया तो अपर जिलाधिकारी ने खनन संचालक को निजी हैंडपंप लगवाने के लिए भी निर्देशित किया।

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
.
Website Designed by- SonPrabhat Web Service PVT. LTD. +91 9935557537
.
Close