मुख्य समाचार

डेढ़ हजार चमगादड़ों की मौत – कलेक्टर द्वारा जांच के आदेश!

सुरेश गुप्त’ग्वालियरी’- सोनप्रभात

विन्ध्यनगर/सिंगरौली(सोनभद्र ,आस-पास) 

कोरोना की मार तो झेल ही रहे थे कि टिड्डी दलों ने जनपद में हमला बोल दिया मगर प्रशासन एवम् ग्रामीणो के सतकर्ता से टिड्डी दलों को खदेड़ कर सीमा से दूर भगा दिया गया जिससे फसलों को नुकसान होने से बचाया जा सका। तदुपरांत लगातार तीन दिन तेज आंधी,वर्षा ने व्यवस्था को नुकसान पहुँचाया अनेक हिस्सों में पेड़ टूटने एवम् कच्चे मकान छप्पर व टीन शेड भी क्षतिग्रस्त हुये । आये आपदा से  गंभीर रूप से घायल भी हुए।  इन सब के बजह से प्रशासन का सबसे नाजुक अंग बिजली बिभाग कोमा में चला गया। अनेक लाइनें क्षति ग्रस्त हो गई सारी बिजली व्यवस्था छिन्न भिन्न हो जाने से लोग असहज हो उठे अनेक फीडरों में 20 घण्टे बाद आपूर्ति प्रारम्भ हुई ।

मरे हुए चमगादड़

यह सब चल ही रहा था कि जनपद के माड़ा खूंटा टोला में डेढ़ हजार चमगादड़ो की मौत से प्रशासन सहम गया है। आनन फानन में क्षेत्र मे बदबू फैलने से रोकने के लिए चमगादड़ो के शव को एकत्रित कराकर उन्हें दफन करवा दिया गया इससे पूर्व इनके खून की सैंपलिंग कराई गयी तथा फॉरेस्ट, वेटेनरी और राजस्व की टीम द्वारा दुर्गन्ध रोकने के लिए मौके पर ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव भी कराया गया है। इस रहस्यमयी मौत के मामले में जिला कलेक्टर ने जांच के आदेश दे दिए है। एस डी एम द्वारा हीट स्ट्रोक को मौत का कारण बताया जा रहा है तथा मौसम मे बदलाव भी इसका मुख्य कारण है। खून के नमूने भेज दिए गए है रिपोर्ट के बाद मौत के सही कारणों का पता लग जायेगा।चमगादड़ों के मौत की खबर उत्तर प्रदेश के कई जिले से भी बीते दिनों में मिली है, जिसका मुख्य कारण बदलता मौसम माना जा रहा है।

प्ले स्टोर से डाउनलोड करे सोनप्रभात मोबाइल एप्लीकेशन। यहाँ क्लिक करें।

Live Share Market

जवाब जरूर दे 

सोनभद्र जिले से अलग कर "दुद्धी को जिला बनाओ" मांग को लेकर आपकी क्या राय है?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
.
Website Designed by Sonprabhat Live +91 9935557537
.
Close
Close