मुख्य समाचार

काचन में वन विभाग द्वारा छापेमारी कर भारी मात्रा में लकड़ी बरामद।

म्योरपुर- सोनभद्र

आशीष गुप्ता- सोनप्रभात

वन प्रभाग रेनुकूट के म्योरपुर रेंज क्षेत्र के कांचन में मंलवार को प्रभागीय वनाधिकारी एमपी सिंह के निर्देश पर अनपरा रेंजर और म्योरपुर प्रभारी नवीन राय ने टीम के साथ छापेमारी कर लैरा नदी के रेत और बन्द पड़े घरों से लगभग एक ट्रक साखू, सागौन, कत्था, हल्दू के सिल्ली, बोटा, धरन और बल्ली बरामद किया है। बताया जा रहा है कि पकडी गयी लकड़िया खताबरन के जंगल से काट कर छुपाई गयी थी।

डीएफओ सिंह ने बताया कि उन्हें गोपनीय सूचना मिली थी कि कांचन में लैरा नदी के रेत और कुछ घरो में सागौन का बोटा छुपा कर रखा गया है। इसकी बरामदगी के लिए अनपरा रेंजर को टीम के साथ मौके पर भेजा गया और बोटे बरामद कर लिए गए है। बताया जा रहा है कि और भी बोटे छिपा कर रखे गए है, उसे भी मुखबिर की सूचना पर बरामद किए जाने का प्रयास किया जा रहा है। रेंजर श्री राय ने बताया बताया कि वन तस्करों को भी चिन्हित कर लिया गया है। जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा। बताते चले कि काचन के खताबरन जंगल के कंपार्टमेंट 8 की उच्च स्तरीय जांच पिछले महीने लखनऊ की टीम द्वारा की गई थी जिसमे तीन माह में 107 पेड़ काटे जाने की पुष्टि के बाद शासन स्तर से म्योरपुर रेंजर फारेस्टर और फरेस्टगार्ड को निलंबित कर दिया गया है। इस मामले में वन विभाग की राज्य स्तर पर किरकरी हुई थी। निलंबित रेंजर पर काचन के चर्चित वन तस्करों से सांठगांठ के आरोप भी वहां के आदिवासी ग्रामीण लगा रहे है। उनका आरोप है कि असली माल तो तस्करो ने बाहर भेज दिया। फिलहाल वन विभाग छापेमारी कर जिस तरह से बोटा बरामद किया है। वन विभाग को उम्मीद है कि वह गांव और आस पास और बोटा बरामद कर लेगा। डीएफओ श्री सिंह ने बोटा बरामद करने वाली टीम को शाबाशी दी है और कहा है कि खताबरन जंगल की निगाहबानी के लिए फरेस्टगार्ड और फारेस्टर की तैनाती भी कर दी गयी है।

  • कत्था के बोटे को प्रधान ने बताया कास्तकारी

गोविंदपुर। म्योरपुर रेंज के काचन में मंगलवार को लगभग एक ट्रक कत्था का बोटा भी वन विभाग की टीम ने एक जगह डम्प किया हुआ बरामद किया है। इसे ग्राम प्रधान कुद्दूश खा ने कास्तकारी परमिट का बताया है और विधायक के यहां फरियाद लगाई है। कहा है कि दो साल पहले परमिट लिया था। जबकि रेंजर नवीन राय का तर्क है कि जब तक परमिट नही दिखाते तब तक कहने से परमिट का बोटा नही हो जाएगा। मिलान करेंगे कास्तकारी पेड़ों के ठंूठ से बोटा का मिलान और परमिट मिलेगा तो बोटा छोड़ देंगे।

Live Share Market

जवाब जरूर दे 

सोनभद्र जिले से अलग कर "दुद्धी को जिला बनाओ" मांग को लेकर आपकी क्या राय है?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
.
Website Designed by Sonprabhat Live +91 9935557537
.
Close
Close