कला एवं साहित्यमुख्य समाचार

चंद पंक्तियां आपकी नजर :- ” हमारा सोनभद्र “

पंक्तियां – सुरेश गुप्त’ग्वालियरी’

(सोनप्रभात सम्पादक मण्डल सदस्य) 

 

  • हमारा सोनभद्र !

कल कल बहती थी नदी,
जंगल था आबाद!
पत्थर करते थे यहाँ,
मौसम से संवाद!!

हरियाली चारों तरफ,
महुआ पीपल पेड़!
करने बंजर आ गए,
लिये मुखौटा भेड़!!

कोई पत्थर खा गया,
तरुवर कोई काट!
बिजली पानी पी गयी,
करके बन्दर बाँट!!

सूखीं नदियाँ कूप भी,
जँगल हुये वीरान!
खेती खूनी हो गयी,
मरता आज किसान!!

 

  • आप भी कविता, रोचक किस्से, व्यंग्य, लेख इत्यादि लिखने में रुचि रखते हैं, चाहते हैं अपनी रचना सोनप्रभात पर प्रकाशित कराना ? तो अपनी रचना हमें व्हाट्सएप करें- 9935557537

Click Here To download Sonprabhat Mobile News Application from google play store.

Live Share Market

जवाब जरूर दे 

सोनभद्र जिले से अलग कर "दुद्धी को जिला बनाओ" मांग को लेकर आपकी क्या राय है?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
.
Website Designed by Sonprabhat Live +91 9935557537
.
Close
Close